अपने पाकीज़ा किरदार की वजह से उम्मुल मोमेनीन हज़रत ए ख़दीजा (सअ) को ताहेरा का लक़ब मिला: मौलाना सईदुल हसन नक़वी

Share This News

आज हज़रत ए ख़दीजा (सअ) की वफ़ात का दिन है और इस मौके पर shianews.in ने शिया अलीम ए दीन मौलाना सईदुल हसन नक़वी से हज़रत ए ख़दीजा (सअ) की शख्सियत पर ख़ास बातचीत की।

मौलाना सईदुल हसन नक़वी ने कहा कि हज़रत ए ख़दीजा (सअ) तारीख़ की वो अज़ीम खातून हैं जिन्होंने अरब के उस गंदे व नजिस माहौल में ऐसी पाकीज़ा ज़िन्दगी गुज़ारी के ताहेरा का खिताब हासिल कर लिया। जिस ज़माने में लड़कियां ज़िंदा दफन कर दी जाती थी उस ज़माने में आप ने अपनी शख्सियत का ऐसा लोहा मनवाया के सैय्यदा ए क़ुरैश का लक़ब हासिल किया।

उन्होंने कहा कि अपने वालिद की विरासत की हक़दार बनकर तिजारत कर ज़रिए अपनी इन्तेज़ामी सलाहियत से इतनी तरक़्क़ी की के मलीकतुल अरब बन गयी।

मौलाना ने कहा कि जनाब ए ख़दीजा की शख्सियत बेहतरीन गवाह है कि हाशिमी खानदान की बेटियां ज़िंदा दफन नही की जाती थी बल्कि खानदान में उन्हें वो इज़्ज़ात ओ वक़ार हासिल होता था जिससे उनकी सलाहियतें यूँ परवान चढ़ती थी कि वो समाज में तमीरी किरदार अदा कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *