Arbaeen Walk के दौरान अगर चाहिए मेडिकल हेल्प तो जाए पोल नंबर 448, भारतीय डॉक्टर करेंगे मदद

Share This News

पिछले साल 2017 में भारतीय डॉक्टरों ने इराक में जव्वार ए इमाम हुसैन (अस) की खिदमत का सिलसिला शुरू किया था। यहां लाखों की तादाद में अरबाईन के दौरान लोग नजफ़ से कर्बला पैदल जाते हैं।

अरबाईन में नजफ़ से कर्बला के रास्ते में जव्वार ए इमाम हुसैन (अस) की खिदमत करने का शरफ उठा चुके डॉक्टरों ने इस साल और बड़े पैमाने पर इस काम को करने का फैसला लिया है।

इस साल यह कैंप द कर्बला कैंपेन, अनफाल फाउंडेशन, इसना अशरी यूथ्स फाउंडेशन और हज़रत अबुतालिब ट्रस्ट के सहयोग से आयोजित होगा। जहाँ न सिर्फ मेडिकल हेल्प मिलेगी बल्कि जव्वारों के लिए चाय का भी एहतेमाम किया जाएगा।

डॉ शहज़ान अली हेमानी ने shianews.in को बताया कि साल 2017 अरबाईन में पोल नंबर 448 पर उनकी टीम ने एक मेडिकल और डेंटल कैम्प लगाया था। इसमें जहां बसरा शहर के कुछ लोगों की मदद से लोगों के रहने व खाने का भी इंतेज़ाम किया गया था।

उन्होंने कहा कि पहला साल होने की वजह से हमे दवाओं और दूसरे मेडिकल के समान का अंदाज़ा नही की कितना लगेगा। फिर भी जो लोग अक्सर अरबाईंन में जाते रहते हैं उनके तजुर्बे से हम लगभग ₹ 4 लाख का मेडिकल सामग्री साथ ले गए थे। वहां हमने कम से कम 5 दिन तक कैम्प चलाने का निर्णय लिया था लेकिन 3 दिन में ही काफी सामग्री खत्म हो गयी थी तो हमने कैम्प खत्म कर कर्बला जाने का निर्णय लिया।

डॉ शहज़ान ने बताया कि इस साल अरबाईन में 7 दिन का कैम्प लगाया जाएगा। पिछले साल के तजुर्बे से सीखते हुए न सिर्फ इस साल कैम्प के दिन बढ़ाये गए हैं बल्कि मेडिकल सामग्री का स्टॉक भी बढ़ाया जाएगा।

उन्होंने अहलेबैत (अस) के चाहने वालों से अपील कि क्योंकि इस साल कैम्प 7 दिन का होगा और मेडिकल सामग्री की ज़्यादा ज़रूरत पड़ेगी, इसलिए बजट ₹ 10 लाख का रखा गया है। इमाम हुसैन (अस) के जव्वारों की खिदमत करने में हमारी मदद करें।

मज़ीद जानकारी के लिए www.arbaeenmedicalcamp.com पर देखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *