अयातोल्लाह खातेमी ने बताया आखिर क्यों अमरीका ईरान से जंग नही करेगा

Share This News

आयतुल्लाह अहमद ख़ातेमी ने बुधवार की सुबह ईदुल अज़हा की नमाज़ के ख़ुतबों में कहा कि ईरान से अमरीका ने युद्ध किया तो उसे इतनी बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ेगी कि वह सोच भी नहीं सकता। उन्होंने कहा कि युद्ध नहीं होने वाला है क्योंकि अमरीका जानता है कि यदि उसने ईरानी राष्ट्र को कोई भी नुक़सान पहुंचाने की कोशिश की तो ईरान की जनता उसे अपमानित करके रख देगी।

आयतुल्लाह अहमद ख़ातेमी ने ईदुल अज़मा की नमाज़ के ख़ुतबों में कहा कि ईरान की जनता ने पिछले चालीस साल से हमेशा शत्रुओं को निराश ही किया है इस समय शत्रु की रणनीति मुसलमानों के बीच फूट और विवाद डालना है और उसकी रणनीति के नतीजे में असली मुसलमानों को बड़े नृशंस तरीक़े से मारा जाता है।

ईदुल अज़हा की नमाज़ के इमाम ने अमरीका से वार्ता न करने के इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता के बयान का हवाला देते हुए कहा कि इस्लामी क्रान्ति सफल होने के बाद से ही अमरीकी इस कोशिश में थे कि ईरानी अधिकारियों से वार्ता करें लेकिन हमेंशा उन्हें विफलता हुई और ईरान से वार्ता की कामना लेकर व क़ब्र में जाएंगे।

आयतुल्लाह अहमद ख़ातेमी ने कहा कि दरअस्ल अमरीका वार्ता नहीं करना चाहता बल्कि वह डिक्टेट करने की आदत रखता है वह चाहता है कि ईरान की मिसाइल शक्ति और क्षेत्र में ईरान के गहरे प्रभाव के बारे में वार्ता करे लेकिन दुशमनों को याद रखना चाहिए कि इस्लामी गणतंत्र ईरान डिक्टेटरों का हमेशा मुक़ाबला किया है और भविष्य में भी करता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *