ज़रूर पढ़ें: अयातुल्लाह सिस्तानी ने अरबईन के मौके आने वालों को दिया ज़रूरी पैगाम

Share This News

अयातुल्लाह अल उज़्मा सैयद अली सीस्तानी ने अरबईन के मौके पर इमाम हुसैन अस की ज़्यारत के लिए कर्बला आने वालों के लिए विशेष सन्देश जारी किया है, जिसमें उन्होंने लोगों से अव्वल ए नमाज़ अदा करने पर ज़ोर दिया है।

अयातुल्लाह सिस्तानी ने कहा कि अपनी नमाज़ के मामले में अल्लाह से डरो। जैसे की कहा गया है की नमाज़ इस्लाम का सुतून है और मोमिनो के दर्जे को बुलंद करती है। अगर नमाज़ कुबूल हो जाए तो समझो सारे अमाल कुबूल और अगर नमाज़ न कुबूल हुई तो कोई भी अमाल कुबूल नहीं होने वाला है।

अपने पैगाम में आगे उन्होंने कहा कि इस्लाम के मानने वालों के लिए यह बेहतर है की वह अपनी नमाज़ बताये गए समय पर पढ़ लें क्यूंकि अल्लाह उन्हें पसंद करता है जो नमाज़ अव्वल ए वक़्त पढ़ते हैं। मुसलमानों के लिए यह सही नहीं है की नमाज़ के वक़्त वह कोई और इबादत में मुब्तेला हो जाए क्यूंकि अल्लाह की इताअत का सबसे बेहतरीन अमल नमाज़ है। अहलेबायत अस से रिवायत है की “हमारे मध्यस्थता (अल्लाह के साथ) उस व्यक्ति द्वारा जीता या प्राप्त नहीं किया जाएगा जो नमाज़ को कम करता है या कम समझता है”।

उन्होंने आगे कहा कि और, आशुरा के दिन इमाम हुसैन अस का नमाज़ पर विशेष ध्यान देने के बारे में, यह बताया गया है कि उन्होंने अपने साथी से कहा कि जिसने उन्हें नमाज़ के लिए सही समय की याद दिलाया था: “आपने मुझे नमाज़ की याद दिला दी, अल्लाह आपको नमाज़ के पर्यवेक्षक में शामिल करे और हमेशा अल्लाह को याद रखो।” और फिर, उन्होंने अपने साथियों के साथ तीरों की बारिश के बावजूद, जंग के मैदान में नमाज़ पढ़ी।

Source: https://alkafeel.net/news/index?id=7385&lang=en

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *