चेयरमैन वक़्फ़ बोर्ड को बड़ा झटका, अयातुल्लाह सिस्तानी के दफ्तर से आया जवाब ‘मंदिर बनाने के लिए नहीं दी जा सकती वक़्फ़ संपत्ति’

Share This News

अयोध्या की विवादित भूमि पर राम मंदिर बनाने के लिए अचानक सामने आए शिया वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी को बड़ा झटका लगा है। इराक से अयातुल्लाह अल उज़मा सैय्यद अली अल-सिस्तान को पूछे गए एक सवाल ने वसीम रिज़वी के मंदिर बनाए जाने के प्रस्ताव को तगड़ा झटका दिया है।

डॉ मजहर नकवी नामक एक व्यक्ति ने अयातुल्लाह सिस्तानी से वक्फ संपत्ति को लेकर एक सवाल किया था, जिसके जवाब ने वक्फ बोर्ड चेयरमैन के राम मंदिर बनवाने की मुहीम को झटका दे दिया है।

अयातुल्लाह सिस्तानी ने सवाल के जवाब में कहा कि वक्फ बोर्ड से संबंधित संपत्तियां नहीं दी जा सकतीं मंदिर या किसी अन्य मंदिर का निर्माण। अयातुल्लाह सिस्तानी को दुनिया भर के शिया सम्मानित मानते हैं।

कानपुर स्थित शिक्षाविद् डॉ मजहर नक़वी ने अयातुल्लाह सिस्तानी से सवाल किया था कि क्या वक्फ संपत्ति की ज़मीन को मंदिर या फिर अन्य किसी धार्मिक ईमारत बनवाने के लिए दिया जा सकता है। जिसपर जवाब दिया गया कि ‘ऐसा नहीं किया जा सकता है’

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वासीम रिज़वी ने कई अवसरों पर विवादित भूमि पर राम मंदिर का निर्माण बनवाने के लिए पीएम मोदी को ख़त लिखा था। वह लगातार बाबरी मस्जिद को शिया मस्जिद बताते हैं और यूपी में भाजपा की सरकार आते ही राम मंदिर बनवाने के लिए कह रहे हैं।

अब जब की अयातुल्लाह सिस्तानी ने सीधे जवाब दे दिया की वक्फ संपत्ति को मंदिर बनवाने के लिए नहीं दिया जा सकता है तो वसीम ने दवा किया है की अयातुल्लाह सिस्तानी से गलत तरीके से सवाल किया गया है।

आपको बता दें कि शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद नकवी लगातार चेयरमैन शिया वक्फ बोर्ड वसीम रिज़वी को तुरंत पद से हटाने व वक्फ बोर्ड में हुए भ्रष्टाचार की सीबीआई जाँच मांग लम्बे समय से कर रहे हैं। लेकिन सरकार उनकी मांगों को लेकर महज़ आश्वासन ही दे रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *