बेहतर और कामियाब ज़िन्दगी के लिए डॉ कल्बे सादिक़ की नसीहत….

Share This News

इंसान की कामियाबी के लिए ज़िन्दगी में कुछ ज़रूरी बदलाव करने पर बेहतर ज़िन्दगी गुज़ार सकता है। ऐसा ही कुछ आज कल सोशल मीडिया पर उपाध्यक्ष आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड डॉ कल्बे सादिक़ की नसीहत वायरल हो रही है।

डॉ कल्बे सादिक़ की नसीहत को उनके बेटे डॉ कल्बे सिब्तैन नूरी ने अपनी फेसबुक वॉल पर शेयर किया है।

मुझे सबसे ज़्यादा चिढ है लड़ाई झगड़े से। इसी लिए मैं हमेशा लड़ाई झगड़े से बचा। ये जो मेरे कुछ प्रोजेक्ट्स कामयाबी के साथ चल रहे हैं माशाल्लाह ये भी इसी वजह से कि यहाँ लड़ाई झगड़ा नहीं हुआ। लड़ाई झगड़े ने बड़े बड़े खानदानों तो तबाह कर दिया , सुकून ग़ारत कर दिया। इस लिए जहाँ तक मुमकिन हो लड़ाई झगड़े से बचो।

ईगो प्रॉब्लम

लड़ाई झगड़े की अहम वजह ईगो प्रॉब्लम होती है। बस जो मैंने कह दिया वही सही है, बस मैं, बस मैं। जहाँ बस मैं आया वहीं गड़बड़ शुरू हुई। इंसान को दूसरों की बात भी ठंडे दिल से सुन्ना चाहिए, ज़रूरी नहीं है कि वो हमेशा सही ही हो। हो सकता है वो ग़लती पर हो तो उसे बिना किसी झिझक के सही बात को क़ुबूल कर लेना चाहिए मगर ये ” बस मैं ” उसको ये करने नहीं देता।

अपनी एनर्जी कहाँ लगाए:

लड़ाई झगड़े में एनर्जी बर्बाद होती है। यही एनर्जी अगर तामीरी कामों में लगा दी जाए तो कितना काम हो जाए। मेरी हमेशा की पॉलिसी रही कि मैंने कभी जवाब नहीं दिया। उसकी वजह यही थी कि अगर जवाब देने में लग जाता तो सारी एनर्जी उसी में बर्बाद हो जाती। इंसान को जवाब देने के बजाये सब्र करना चाहिए वक़्त खुद जवाब दे देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *