नम आंखों और ग़म के माहौल में सुपुर्दे ख़ाक हुए मौलाना एहसान हैदर जवादी

Share This News

मौलाना एहसान हैदर जवादी आज इलाहाबाद के दरियाबाद स्थित कब्रिस्तान में उलेमा, दानिश्वर, रिश्तेदारों की कसीर तादाद में नम आंखों और ग़म के माहौल में सुपुर्दे ख़ाक हो गए।

नमाज़े जनाज़ा मौलाना शमिमुल हसन की क़यादत में अदा की गई। मजलिस को मौलाना मंज़र सादिक़  ने खिताब करते हुए कहा कि आलिम की मौत पूरे समाज की मौत है। मसाएब इमाम हुसैन अस बयान किए।

इस मौके पर मुम्बई, लखनऊ, करारी समेत कई जनपदों के धर्मगुरु, समाजी व सियासी लोग मौजूद थे। मौलाना मंज़र सादिक़, मौलाना सैफ अब्बास, मौलाना नक़ी असकरी, मौलाना मीसम ज़ैदी, मौलाना कुमैल असग़र, मौलाना इस्हाक़ रिज़वी, मौलाना रज़ी, मौलाना सईदुल हसन ,मौलाना सफदर हुसैन ज़ैदी जौनपुर, मौलाना तस्दीक़ हुसैन ,मौलाना मश्रेकैन, मौलाना फरीदुल हसन , समेत कई मज़हबी रहनुमाओं, सभी फ़िरक़ों और मज़हब के लोगों ने शिरकत की और गम का इज़हार करते हुए पसमंदगान ख़ुसूसन मरहूम के बड़े भाई मौलाना जव्वदुल हैदर को ताज़ियत पेश की। मौलाना एहसान हैदर की मजलिसे सेयुम जुमा को क़ाज़ी जी की मस्जिद में होगी।

मौलाना एहसान हैदर का जिस्मे खाकी आज मुम्बई से बनारस एयरपोर्ट पहुँचा। वहां पर काफी तादाद में लोग नम आंखों के साथ इंतेज़ार कर रहे थे। जनाज़ा आते ही एयरपोर्ट पर आहो बुका की सदा गूंज उठी वहां से जनाज़ा इलाहाबाद के करेली स्थित उनके आवास पर आया। वहाँ से 9 बजे दरियाबाद स्थित कब्रिस्तान में आखिरी रुसूमात के लिए के जाया गया जहाँ उनके वालिद अल्लामा ज़ीशान हैदर मरहूम की कब्र के पास ही उनको दफन किया गया।

मौलाना एहसान हैदर का इंतेक़ाल कल मुम्बई में हो गया था वो मीरा रोड स्थित मस्जिदे हैदरी में मजलिस को खिताब कर रहे थे। उसके बाद उनको हार्ट अटैक हो गया उनको अस्पताल ले जाया गया जहाँ डॉक्टरों ने उनकी मौत का एलान किया।

मौलाना एहसान सिर्फ नाम के ही नही बल्कि अमल से भी एहसान करने वाले थे इसका अंदाज़ा आज उनकी आखरी रुसूमात में मौजूद कुछ लोगों ने अपने बयान से कराया खामोशी से ज़रूरतमन्दों की खिदमत और दीन की तबलीग़ में पेश पेश रहते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *