हज यात्रा पर जाने वाले भारतीय प्रतिनिधिमंडल के नेता बनने पर डा.अम्मार रिजवी का हुआ सम्मान

Share This News

डा.अम्मार रिजवी अपने आप में एक संस्था है, उनके साथ रहने से उनसे बहुत कुछ सीखने को मिलता है। यह बात लखनऊ यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.एसपी सिंह ने आज शाम यहां कैफी अकादमी में डा. अम्मार रिजवी को हज यात्रा पर जाने वाले भारतीय प्रतिनिधिमंडल के नेता बनने के सम्मान और आज़मीने हज के मसाएल बताने के लिए में आयोजित एक समारोह में कही।

पूर्व मेयर डा.दाऊजी गुप्त ने कहा कि डा.अम्मार रिजवी फूनन के इमाम हैं। कांग्रेस नेता हाजी सिराज मेंहदी ने कहा कि डा.अम्मार रिजवी ने मुझे आगे बढ़ाने में की मदद की है। कहा कि आज हालात काफी खराब है। फखरूद्दीन अली अहमद कमिटी के चेयरमैन व लखनऊ यूनिवॢसटी के फारसी के विभागाध्यक्ष प्रो.आरिफ अयूबी ने कहा कि किसी एक इंसान में इतनी खूबियां नहीं है जितनी डा.अम्मार रिजवी में है। डा.खान मोहम्मद आतिफ ने कहा कि हर दौर की हुकुमत डा.अम्मार रिजवी के मश्विरों की मोहताज रही।

राष्ट्रवादी कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष प्रो. डा.रमेश दीक्षित ने कहा कि अम्मार रिजवी अवध की गंंगा जमुनी तहजीब की सच्ची
नुमाइंदगी करते है। उन्होंने डा.रिजवी के कई किस्से भी सुनाये कि वह अपने से छोटे की भी बहुत इज्जत करते है और उनका पूरा ख्याल रखते है। डा.दीक्षित ने कहा कि उन जैसा व्यकित उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री होना चाहिए था।

शकील सिद्दीकी ने कहा कि डा,अम्मार अवध की कस्बाई जिंदगी को अच्छी तरह समझते हैं। अम्मार रिजवी हमारे दिलों पर हुकुमत करते हैं।

पत्रकार प्रदीप कपूर ने कहा कि अम्मार साहब एक संस्था है। वह दोस्तों के दोस्त हैं। पूर्व नारकोटिक्स आयुक्त प्रवीन तल्हा ने कहा कि अम्मार साहब जैसा कोई मंत्री नहीं रहा।

मशहूर हदय रोग विशेषज्ञ पदमश्री डा.मंसूर हसन ने कहा कि अम्मार साहब इखलाक व इंसानियत की प्रतिमा है। उन्होंने कहा कि महमूदाबाद में एक हादसे में उनके पैर की हड्डी टूट गयी और यहां केजीएमयू में एक मशीन नहीं थी जिससे उनका सही इलाज हो पाता तब डा.अम्मार रिजवी ने मुख्यमंत्री से विशेष प्लेन की सुविधा हमारे लिए ली और खुद अपने साथ लेकर नर्ई दिल्ली गये और वहां तीन दिन रहकर मेरे इलाज का बंदोबस्त किया।

डा.अम्मार रिजवी ने कहा कि मेरे हज प्रतिनिधिमंडल का नेता चुने जाने पर कुछ लोगों ने एतराज किया लेकिन उनको प्रधानमंत्री ने ही जवाब दिया कि जब कांग्रेस सरकार ने अटलजी को संयुक्त राष्ट्र में नेता बनाकर भेजा था तो अटलजी ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण नहीं की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *