मानवाधिकार को झूठे दावेदारों से आतंकवादियों का संबंध हैः आयतुल्लाह सैयद अली ख़ामनेई

Share This News

ईरान के अहवाज़ नगर में 22 सितंबर को सैनिक पैरेड हो रहा था कि आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलियां चलाकर 25 नागरिकों को शहीद और 60 को घायल कर दिया।

आतंकवादियों के हमले से एक बार फिर ईरानी राष्ट्र से दुश्मनों की क्रूरता स्पष्ट हो गयी। इस हमले को अलअहवाज़िया गुट ने अंजाम दिया है जिसे लंदन और रियाज का समर्थन प्राप्त है।

ईरान की इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामनेई ने इस आतंकवादी हमले की भर्त्सना की और इस हमले में शहीद होने वालों के परिजनों से सहानुभूति जताते हुए बल देकर कहा है कि सुरक्षा व गुप्तचर तंत्रों की ज़िम्मेदारी है कि वे जल्द से जल्द से अपराधियों का पता लगाकर उन्हें देश की मज़बूत अदालत के हवाले करें।

वरिष्ठ नेता ने अपने संदेश में बल देकर कहा है कि इन निर्दयी व निष्ठुर आतंकवादियों का संबंध मानवाधिकार के उन झूठे दावेदारों से है जो सदैव मानवाधिकारों की रक्षा का दम भरते हैं और द्वेष से भरे उनके दिल ईरान की राष्ट्रीय शक्ति के प्रदर्शन को देखने को सहन नहीं कर सकते।

जब भी कोई आतंकवादी हमला होता है तो सबसे पहले यही सवाल किया जाता है कि इस हमले को किसने अंजाम दिया या इस हमले के ज़िम्मेदार कौन हैं? इस बात में कोई संदेह नहीं है कि अहवाज़ में होने वाला आतंकवादी हमला भी अमेरिका और क्षेत्र के एक रूढ़िवादी देश के नेताओं के मध्य होने वाली सांठ-गांठ का परिणाम है और इस प्रकार के हमले इससे पहले भी इन देशों की सांठ- गांठ से हो चुके हैं। इस गुट ने पिछले वर्ष भी उस कारवान पर हमला किया था जो उन क्षेत्रों को देखने के लिए गया था जहां ईरान- इराक युद्ध हुआ था।

ईरान के अनुसार इस बात का किसी प्रकार से औचित्य नहीं दर्शाया जा सकता कि अलअहवाज़िया गुट के प्रवक्ता को इस बात की अनुमति दी जाये कि वह लंदन में स्थित टीवी चैलन से इस बात की घोषणा करे कि इस हमले को उसने अंजाम दिया है।

अमेरिका, सऊदी अरब और इस्राईल ने आतंकवादी गुटों को बनाकर और उनका समर्थन करके पश्चिम एशिया को आतंकवादी कार्यवाहियों व हमलों के रणक्षेत्र में बदल दिया है।

बहरहाल ईरान की इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता ने अपने संदेश में स्पष्ट करके कहा है कि ये अपराध क्षेत्र में अमेरिका की कठपुतली सरकारों के हैं जिन्होंने ईरान के अंदर अशांति उत्पन्न करने को अपना लक्ष्य बना रखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *