मुअम्मल फाउंडेशन की ओर से संडे दीनी क्लासेज का आगाज, उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों का हुआ सम्मान

Share This News

अल मुअम्मल कल्चरल फाउंडेशन की ओर से संडे दीनी क्लासेज के पांचवें सत्र का आरम्भ संस्था के हरदोई रोड सरफराजगंज स्थित कार्यालय में किया गया। संस्था के सरफराजगंज स्थित कार्यालय के मुअम्मल हॉल में दो सत्रों में इस्लामी महीने शाबान के बाबरकत महीने पर सेमिनार का आयोजन किया गया। सेमिनार का आगाज मौलाना मिनहाल जैदी ने तिलावते कलामे पाक से किया, जिसके बाद उलमा ने सेमिनार को सम्बोधित किया।

सेमिनार को सम्बोधित करते हुए मौलाना हसनैन बाकरी जौरासी ने इमाम हुसैन और इंसानी मूल्यों पर प्रकाश डाला। मौलाना हसनैन बाकरी ने कहा कि अगर इंसान के अंदर नफ्स की इज्जत आ जाए तो वह हर बुराई से महफूज रहता है।

मौलाना मूसी रजा ने पारिवारिक जीवन और मासूमीन के किरदार पर रोशनी डाली। उन्होंने कहा कि परिवार की पहली कड़ी पति-पत्नी हैं, जिनके बीच आपसी तालमेल और सामन्जस्य होना जरूरी है। पति-पत्नी एक दूसरे के अधिकार और कर्तव्यों को जानें।

मौलाना सईदुल हसन नकवी ने सेमिनार को सम्बोधित करते हुए विलायत के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि जनाबे जैनब विलायत की कद्र और मंजिलत से बखूबी वाकिफ थीं और यही वजह है कि रोजे आशूर सख्त हालात में भी जनाबे जैनब ने चौथे इमाम से सवाल किया कि क्या हम जले हुए खेमों से बाहर निकल जाएं या यहीं जल जाएं।

सेमिनार के अंत में क्लासेज में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली महिलाओं बिन्तुल हुदा, अलीना जहरा, इल्मा जहरा और अफीफा जहरा को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा हिना जहरा औैर सफीना नकवी को भी सम्मानित किया गया।

इस मौके पर संस्था के मौलाना एहतिशामुल हसन, मौलाना मोहम्मद अली, मौलाना अलमदार हुसैन सहित अन्य उलमा भी मौजूद थे। दूसरे सत्र में महिलाओं ने शाबान के महीने के महत्व पर प्रकाश डाला। महिलाओं ने हजरत अब्बास की शान में कलाम पेश किये। सत्र में महिलाओं ने शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए महिलाओं से शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन का आह्वान किया।

संस्था की ओर से संडे दीनी क्लासेज का आयोजन पिछले पांच वर्षों से किया जा रहा है, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल होती हैं। संडे दीनी क्लासेज में तजवीदे कुरान, तर्जुमा व तफ्सीरे कुरान, अहकामे इस्लामी, अकाएद, अख्लाक, समाजी मसाएल के साथ-साथ खिताबत और जाकिरी की भी शिक्षा दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...