जानिए, सही से नमाज़ में सजदा और रुकू करने के अज़ीम फायदे

Share This News

ऐसे तो नमाज़ की जितनी फ़ज़ीलत बताई जाए कम है लेकिन नमाज़ में किये जाने वाले सजदा और रुकू को सही से करने के इतने फायदे हैं की आप सोच में पड जाएँगे।

इसी सब को एक जगह जमा करने का काम किया मशहूर आलिम ए दीन शेख मुहसिन कराअति साहब ने अपनी किताब ‘तफसीर ए नमाज़’ में जहाँ उन्होंने नमाज़ के हर अरकान पर तफसील से रौशनी डाली है।

इमाम अल-बाकिर (अस ) ने फ़रमाया है: “जो कोई भी पुरे और सही तरीके से नमाज़ में रुकू करता करता है वह वहशत ए कब्र से सुरक्षित होगा।”

Wasa’il ash-Shi‘ah, vol. 4, p. 928.

जितना अधिक हम अल्लाह के सम्मान में झुकते हैं, उतना ही हमारे पास शैतान और शैतान के लश्कर का सामना करने की शक्ति होगी। इमाम एस-सादिक (अस) ने फ़रमाया कि “लम्बा रुकु और सजदा इब्लीस को परेशान कर देता है, और वह कहता है, ‘हाय मेरे लिए! इतनी अच्छी बंदगी, अब लोग अब मेरे बहकावे में नहीं आएँगे।”

Wasa’il ash-Shi‘ah, vol. 4, p. 928.

अल्लाह फरिश्तों से कहते हैं: “मेरे बन्दों को देखें, वह कितने आदर से मेरी इबादत कर रहे हैं और वह मेरे सामने घुटने टेकते हैं। मैं उन्हें भी महानता दूंगा और उन्हें सम्मान और महिमा दूंगा।”

Jami‘ al-Ahadith, vol. 5, p. 203.

इमाम एस-सादिक (अस) कहता है: “लम्बा रुकू और और सजदा करने से उम्र लम्बी होती है।”

Wasa’il ash-Shi‘ah, vol. 4, p. 928.

Source: Al-Islam.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...