यमन में मासूमों का क़तल ए आम कर रहे सऊदी अरब को झटका, संयुक्त राष्ट्र करेगा अपराधों की जांच

Share This News

ह्यूमन राइट्स वॉच ने घोषणा की है कि यमन में जो अपराध हुए हैं उसके संबंध में संयुक्त राष्ट्रसंघ जो जांच कर रहा है सऊदी अरब उसमें विघ्न डाल रहा है।

ह्यूमन राइट्स वॉच ने आगे कहा है कि सऊद अरब इस प्रयास में है कि इस जांच को बंद कर दिया जाये। यमन में जो अपराध हुए हैं संयुक्त राष्ट्रसंघ के विशेषज्ञों ने अभी जल्द ही उसके संबंध में जांच आरंभ की है।

संयुक्त राष्ट्रसंघ की मानवाधिकार परिषद ने 28 अगस्त को अपनी एक रिपोर्ट में स्पष्ट शब्दों में घोषणा की थी कि यमन में जो अपराध हो रहे हैं और हुए हैं उनमें सऊदी अरब, संयुक्त अरब इमारात और उनके पिट्ठूओं की सीधी भूमिका है।

साथ ही सऊदी अरब के समर्थक पश्चिमी देश भी यमन में होने वाले अपराधों के आयामों से पर्दा हटने से रोकने और इन अपराधों से आम जनमत का ध्यान दूर रखने का प्रयास कर रहे हैं जबकि ह्यूमन राइट्स वाच जैसे संगठन सऊदी अरब और उसके समर्थकों के क्रिया- कलापों पर आपत्ति जता रहे हैं।

“नजात” नामक अंतरराष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष डेविड मिलिबैंड ने कहा है कि कुछ लोग वास्तविकताओं को छिपाने की जुगत में हैं। उन्होंने कहा कि यमन में जारी परिवर्तन विश्व समुदाय के लिए वास्तविकताओं को स्पष्ट कर देंगे कि शायद वह निश्चेतना की निद्रा से जाग जाये।

संयुक्त राष्ट्रसंघ ने यमन में होने वाले अपराधों की जांच- पड़ताल का जो निर्णय लिया है उसे सऊदी अरब के लिए एक झटका समझा जा सकता है जिसने लगभग 4 वर्षों से यमन के खिलाफ व्यापक युद्ध आरंभ कर रखा है। इस संभावना से सऊदी अधिकारी चिंतित हो गये हैं कि कहीं यमन में होने वाले अपराधों की जांच- पड़ताल का मुद्दा अंतरराष्ट्रीय अपराध जांच न्यायालय में न उठा दिया जाये।

इस आधार पर सऊदी अरब इस संबंध में हर समिति के गठन को रोकने का प्रयास कर रहा है। बहरहाल लगभग चार वर्षों से सऊदी अरब ने यमन के खिलाफ जो युद्ध आरंभ कर रखा है उसमें अब तक 14 हज़ार से अधिक यमनी मारे जा चुके हैं जिनमें ध्यान योग्य संख्या महिलाओं और बच्चों की है।

इसी प्रकार सऊदी अरब ने यमन का हवाई, जमीनी और समुद्री परिवेष्टन भी कर रखा है जिससे यमनी जनता को खाद्य पदार्थों और दवाओं सहित ज़रूरत की समस्त चीज़ों की भारी कमी का सामना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...