शबे-बरात पर रोशन होंगे शहर के कब्रिस्तान

Share This News

शबे-बरात के लिए शहर के कब्रिस्तानों में तैयारियां पूरी हो गयी हैं। इस्लामी महीने शाबान की 14 तारीख 1 मई मंगलवार को मनाई जाने वाली शबे-बरात पर मुस्लिम समुदाय अपने पुरखों और दुनिया से विदा हो चुके रिश्तेदार, दोस्तों और अजीजों की कब्रों पर जाकर रोशनी करेंगे और फातेहा पढ़कर ईसाले सवाब करते हैं।

शबे-बरात के लिए कब्रिस्तानों के आस-पास साफ-सफाई के साथ ही अन्य व्यवस्थाएं दुरुस्त की जा रही हैं। शबे-बरात के दिन मुस्लिम समुदाय कब्रिस्तानों में जाकर अपने पुरखों, रिश्तेदारों और दोस्तों की कब्रों पर सूरए फातिहा पढऩे के साथ ही उनके लिए दुआएं करते हैं। इस मौके पर शहर के कब्रिस्तानों में रात भर लोगों की भीड़ लगी रहती है, जो अपने पुरखों की कब्रों पर जाकर उन्हें याद करते हैं।

शबे-बरात के लिए कब्रिस्तानों में कब्रिस्तान प्रबंधन की ओर से कब्रों की साफ-सफाई और दुरुस्त करने का का काम सोमवार को लगभग समाप्त हो गया। वहीं बड़ी संख्या में लोगों ने अपने पुरखों, रिश्तेदारों और दोस्तों की कब्रें दुरुस्त करने के साथ खुद ही उन पर चूने आदि की पुताई आदि की।

शबे-बरात के मौकेे पर लोग अपने पुरखों की कब्रों को फूल, मोमबत्तियों से सजाने के साथ ही अगरबत्तियों से आस-पास के माहौल को महकाते हैं। अपने पुरखों की कब्रों के पास बैठकर कुरान और दूसरी दुआओं की तिलावत करते हैं, जिससे उन्हें ईसाले सवाब हो। शबे-बरात यानि निजात की रात। इस रात इबादत का बहुत महत्व है। इस रात खुदा की रहमतें नाजिल होती हैं और दुआएं कबूल होती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *