सुलह ए इमाम हसन (अस) ने बातिल के चेहरे से नकाब उलट कर रख दी थी: मौलाना सईदुल हसन नक़वी

Share This News

इमाम हसन (अस) की विलादत पर सबको मुबारकबाद पेश करते हुए मौलाना सईदुल हसन नक़वी ने सुलह ए इमाम हसन (अस) पर रौशनी डाली।

मौलाना सईदुल हसन ने कहा कि इमाम हसन (अस) ने अमीरे शाम से सुलह करके बनी उमैय्या के चेहरे से नेफ़ाक़ की नक़ाब उलट दी क्योंकि सुलह में आपने एक शर्त ये रखी थी की मुआविया इब्ने अबू सुफियान किताब और सुन्नत पर अमल करेंगे।

उन्होंने कहा कि ज़ाहिर सी बात है आप (अस) की वज़हे मुखासेमत ज़ाती न थी बल्कि सामने वाला किताब और सुन्नत का मुखालिफ था और अगर वह इन दोनों पर आमिल होता तो कभी ये शर्त इमाम ए हसन न रखते और अमीरे शाम इस शर्त को क़ुबूल न करता।

मौलाना ने बताया की इमाम हसन ने यह भी शर्त रखी थी की मुआविया अपने बाद किसी को जानशीन नहीं बनाएगा लेकिन उसने अपने बेटे यज़ीद को जानशीन बना कर नक़्ज़े अहद किया। और नक़्ज़े अहद करना भी किताब और सुन्नत के ही खिलाफ अमल करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *