बश्शार असद का ग़ोता का दौरा, आतंकवाद के ख़िलाफ़ जीत के लिए सीरिया के मज़बूत इरादे का परिचायक

Share This News

सीरियाई राष्ट्रपति बश्शार असद ने ऐसे समय दमिश्क़ के उपनगरीय भाग में स्थित पूर्वी ग़ोता क्षेत्र का दौरा किया कि इस क्षेत्र के ज़्यादा तर इलाक़े आतंकियों के क़ब्ज़े से आज़ाद हो गए हैं।

इन दिनों सीरिया के हालात के बारे में जब ख़्याल आता है तो सबसे पहले पूर्वी ग़ोता के मोर्चे पर लड़ाई की ओर ध्यान जाता है। इन दिनों पूर्वी ग़ोता का इलाक़ा मीडिया में चर्चा का विषय बना हुआ है। पूर्वी ग़ोता स्ट्रैटिजिक दृष्टि से बहुत अहम इलाक़ा समझा जाता है। यह क्षेत्र दमिश्क़ के अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के क़रीब में स्थित है।

इसी वजह से तकफ़ीरी आतंकवादी गुट जिन्हें पश्चिमी व अरब देशों का समर्थन हासिल है, इस क्षेत्र पर क़ब्ज़ा जमाने के लिए कोशिश कर रहे हैं ताकि इसे दमिश्क़ में पैठ बनाने के लिए इस्तेमाल करें। पूर्वी ग़ोता के आज़ाद होने का मतलब आतंकियों के आख़िरी क़िले का ढहना और दमिश्क़ पर क़ब्ज़ा करने के उनके ख़्वाब का चकनाचूर होना है।

आतंकवादी पूर्वी ग़ोता से दमिश्क़ के मोहल्लों पर रॉकेट मारकर बेगुनाह लोगों का ख़ून बहाते हैं और आतंकियों का यह क़दम उस सहमति का खुला उल्लंघन है जो तनाव कम करने वाले क्षेत्र क़ायम करने से संबंधित है। इसी वजह से सीरियाई सरकार ने अब पूर्वी ग़ोता से आतंकियों का सफ़ाया करने का संकल्प ले लिया है। इस वक़्त पूर्वी ग़ोता के 80 फ़ीसद भाग आतंकियों के अतिग्रहण से आज़ाद हो गए हैं।

सीरिया में अशांति के वर्षों में जब भी सीरियाई सरकार ने पूर्वी ग़ोता को आज़ाद कराने की कोशिश की तो आतंकियों के समर्थक अरब व पश्चिमी देशों ने दुष्प्रचार की लहर और रासायनिक हथियार के सीरियाई सेना द्वारा इस्तेमाल के झूठे दावों के ज़रिए, इसकी आज़ादी के रास्ते में रोड़े डाले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *