ख़ामोशी और मसलहत पसन्दी हर मौके पर मुनासिब नहीं, मुत्तहिद तौर पर सामने आएं उलेमा: डॉ कल्बे सिब्तैन

सोशल मीडिया पर अक्सर शिया समुदाय के लोग शिया उलेमा से एकजुट होकर क़ौम के मसले उठाने को लेकर मांग

Read more